Sunday, 22 March 2015

साया -३...


चाँद आधा है और मैं भी,
अब लिखता हूँ तेरी तलाश में,
सुबह से लेकर शाम
जमीं से लेकर आसमान।
           
                     अब हर दिन के बाद
                     जब रात आती है,
                     तो मानो ठहर सी जाती है
                     खालीपन में मेरे दिल के।


पूनम की रातें तो
आती हैं अक्सर ही,
पर चांदनी मेरे आँगन में
अब बरसती नहीं।

                      अब लिखता हूँ तेरी तलाश में,
                       कि शायद मेरी कोई नज़्म
                       पसन्द आएगी तुझे,
                       और आसमान से उतरकर
                        फिर एक बार मेरे करीब आये
                        और मुकम्मल हो जाये मुझमें।  

Friday, 13 March 2015

साया -२

कल रात  मैं घंटो बैठा रहा
खुले आसमां  के नीचे
तुझे ढूंढने के लिए,
इन तारों के बीच
पर नहीं मिली तुम मुझे वहां।
       
                तुम्हारी आवाज़ का रिकॉर्ड याद है
                जो बनाया था हमने एक रोज़
                उसे सुना तो थोड़ी तसल्ली हुई
                और खिलखिलाई होंगी हमारे घर की दीवारें,
                बगीचे और दरवाजे भी।

फिर मैंने तुम्हारी डायरी खोली
और तुम वहीँ थीं
तुम्हारी उन दो पसंदीदा
नज़्मों के बीच छिपी हुई।
मैंने एक बार फिर उन नज़्मों को पढ़ा,
और समा लिया तुमको अपने अंदर।