Monday, 31 December 2012

श्रद्धांजलि.........

तेरह दिन की गहरी धुंध,
और अगली सुबह,
जैसे सुबह ही नहीं हुई।
चारों  ओर  तम का साया
हे ईश! नहीं कहीं तेरी छाया।।
       
          जीवन हार गया है आज,
          विद्रोह- पूरित सम्पूर्ण समाज।
          अब जीवित केवल निराशा,
          और चुभन लाचारी की;
          यही कहानी शेष बची अब,
          हिन्दुस्तान की नारी की।।

कैसा है ये अंतर्द्वंद,
क्रोधाग्नि अब क्यूँ रहे मंद।
मानव को मानव बनना होगा।
क्रोधाग्नि में जलना होगा,
अग्नि-परीक्षा तय कर ही इसको,
तपकर सोना बनना होगा।।

Tuesday, 6 November 2012

आखिरी पर्वत से आगे .......

जिन आँखों में जगे हों सपने,
उन आँखों में नींद कहाँ?
जब दीप जले हों रातों में,
तब अंधियारे के तीर कहाँ?
     
         बढ़ेंगे पग तो राह बनेगी,
         उम्मीदों की धूप खिलेगी l
         जब निर्भय और संकल्प से यारी,
         तब फिर मन भयभीत कहाँ?

पथ में कितने साथी छूटे;
पर तेरा न साहस टूटे,
निर्भर केवल जब स्वयं के श्रम पर,
तब रिश्ते-नाते, मीत कहाँ?

       हर एक हार संकल्प बढ़ाये,
        हर एक जीत आगे ले जाए;
        धैर्य नियंत्रित, पथ संकल्पित
        अब मंजिल मेरी दूर कहाँ?

जब दीप जले हों रातों में,
तो अंधियारे के तीर कहाँ?


Wednesday, 19 September 2012

वो शाम

ये जानते हुए भी कि
न लौट के आओगे तुम कभी
वो शाम ठहर के वहीँ;
तेरा इंतज़ार करती है l
  

               अहसास होते हुए भी ये
               कि निकल गया तू बहुत दूर कहीं
               तब भी मेरी नजरें क्यूँ हर पल;
                तेरा दीदार करती हैं l

ये जानते हुए भी कि
फर्क तुझमें और मुझमे ऐसे
जैसे धरती और अम्बर में,
फिर भी मुझसे दुनिया ये अक्सर;
जिक्र तेरा ही करती है l

             बरस दर बरस बीत गए
             लेकिन मैं रह गया पीछे कहीं
             उसी रात पर;
             वो रात ठहर के वहीँ
             तुझी से बात करती है l
             वो शाम ठहर  के वहीँ
             तेरा इंतज़ार करती है l


        

Monday, 16 July 2012

कल रात तुझे सपने में देखा

कल रात तुझे सपने में देखा,
चाँद जमीं पर चलते देखा l
स्वर्ग लगे है कितना सुन्दर,
आज यहीं धरती पर देखा ll 
                 
                     तुम हँस दो तो जीवन चलता,
                      तुम गाओ तो बहती पवनें,
                      कैसे अंकुर वृक्ष है बनता,
                       नभ से जीवन झरते देखा ll


तुमको पाना ध्येय यही अब,
राह तू ही मंजिल तू ही अब l
नित-नित अपने सपनों को,
नयी चुनौती पढ़ते देखा ll 
                 
                         धर्म-ग्रन्थ का तू ही सार,
                          तू सावन तू ही आषाढ़ l
                          पल-पल तेरी यादों में,
                          मैंने स्वयं को जलते देखा ll

कल रात तुझे सपने में देखा,
चाँद जमीं पर चलते देखा ll

                     

Monday, 11 June 2012

देखो सूरज डूब रहा है.........

देखो सूरज डूब रहा है,
एक और दिन बीत रहा हैl
कोई पूछे मदिरालय का पथ,
कोई साकी का डेरा,
कोई अलग नहीं यहाँ पर;
सबका जीवन गहन अँधेराl
पथिक का धीरज टूट रहा है,
देखो सूरज डूब रहा हैll

             वो कहते हैं नित की भाँति,
             पुनः सवेरा आएगाl
             पर मुझको भय है इस जग में बस,
             अँधियारा ही रह जायेगा;
              बस  अँधियारा ही रह जायेगाll
              एकाकी जीवन में जोगी,
               सन्नाटा अब  गूँज रहा है,
                देखो  सूरज डूब रहा हैll
             
यूँ तो जग ने अविरत समझाया,
पर मुझको अँधियारा ही भायाl
 ह्रदय-वेदना सहकर बोलो;
किसने है उजियारा अपनाया?
किसने है उजियारा अपनाया?
क्षण-क्षण रैना बढ़ने पर,
स्वप्न-महल अब टूट रहा है;
देखो सूरज डूब रहा हैll


Monday, 14 May 2012

देख पिया फागुन आया....

यूँ तो घर की ड्योढ़ी पर,
बखत बे बखत अक्सर ही,
वो उसका रस्ता तकती है,
ना जाने फागुन के आते ही;
वो थोडा खिल सी  जाती है ll

              वो चिट्ठी फिर से पढ़ती है,
              लिखा था जिसमे उसने की,
              मैं लौटूंगा फागुन में,
              हवा से पूछती है वो,
              कि उसका पिया कहाँ पे हैll



वो सजती है, संवरती है,
खुदी से बातें करती है,
फागुन का हर एक दिन वो 
गिन - गिन के बिताती है ll

                फागुन जब ढलने लगता है,
                तो वो भी ढलने लगती है,
                मगर फिर भी हर एक दिन वो 
                खुद को ये समझाती  है;
                कि लिखा था ख़त में उसने ये,
                कि लौटूंगा मैं फागुन मे ll 

फागुन यूँ बीत जाता है,
वो कुछ-कुछ टूट जाती है, 
यादों में पिछले फागुन की वो;
वो फिर से डूब जाती हैll

कहीं भूल न जाऊँ पथ घर का.......


                          वैदेही वनवास से,
                          विघटित होती आस से,
                          ओझिल होते सपनो से,
                           दूर हुए उन अपनों से,
                           किंकर्तव्यविमूढ़ होते हैं;
                            जब आप घर से दूर होते हैंll
                                   
                                             बुझती आशा, छिपता सूरज,
                                              मंदिर में वो राम की मूरत,
                                              वो नेजे और गुदरी के मेले,
                                              वो कुल्फी और चाट के ठेले,
                                              बड़े सरल पर गूढ़ होते हैं;
                                              जब आप घर से दूर होते हैं ll
                     
                           आँख भरी और दिल है तन्हाँ,
                           सुख वैभव का क्या है करना,
                           दूर रहे जब जीवन अपना,
                           घर संसार लगे एक सपना,
                           क्या अपनों के बिना कभी सम्पूर्ण होते हैं;
                           जब आप घर से दूर होते हैं ll