Monday, 14 May 2012

कहीं भूल न जाऊँ पथ घर का.......


                          वैदेही वनवास से,
                          विघटित होती आस से,
                          ओझिल होते सपनो से,
                           दूर हुए उन अपनों से,
                           किंकर्तव्यविमूढ़ होते हैं;
                            जब आप घर से दूर होते हैंll
                                   
                                             बुझती आशा, छिपता सूरज,
                                              मंदिर में वो राम की मूरत,
                                              वो नेजे और गुदरी के मेले,
                                              वो कुल्फी और चाट के ठेले,
                                              बड़े सरल पर गूढ़ होते हैं;
                                              जब आप घर से दूर होते हैं ll
                     
                           आँख भरी और दिल है तन्हाँ,
                           सुख वैभव का क्या है करना,
                           दूर रहे जब जीवन अपना,
                           घर संसार लगे एक सपना,
                           क्या अपनों के बिना कभी सम्पूर्ण होते हैं;
                           जब आप घर से दूर होते हैं ll
  

9 comments:

  1. Replies
    1. bht hi jaldi manager banane wale ho..:P..u should "appreciate" the hardwork also :)

      Delete
  2. kya haal-e-dil bayan kiya hai....cha gaye bandhu... :)

    ReplyDelete
  3. bht bhadiya ladke...majja aa gaya..:)

    ReplyDelete
  4. Excellent Kinshu... Keep it up !!!

    ReplyDelete
  5. bilkul situational hai now even i can understand...posted at rajahmundry

    ReplyDelete
  6. बहुत खूबसूरत मित्र, अपनी योग्यता को कहा छुपाये थे?शब्दों और भावों का बेजोड समन्वय.
    जारी रखना

    ReplyDelete