Monday, 14 May 2012

देख पिया फागुन आया....

यूँ तो घर की ड्योढ़ी पर,
बखत बे बखत अक्सर ही,
वो उसका रस्ता तकती है,
ना जाने फागुन के आते ही;
वो थोडा खिल सी  जाती है ll

              वो चिट्ठी फिर से पढ़ती है,
              लिखा था जिसमे उसने की,
              मैं लौटूंगा फागुन में,
              हवा से पूछती है वो,
              कि उसका पिया कहाँ पे हैll



वो सजती है, संवरती है,
खुदी से बातें करती है,
फागुन का हर एक दिन वो 
गिन - गिन के बिताती है ll

                फागुन जब ढलने लगता है,
                तो वो भी ढलने लगती है,
                मगर फिर भी हर एक दिन वो 
                खुद को ये समझाती  है;
                कि लिखा था ख़त में उसने ये,
                कि लौटूंगा मैं फागुन मे ll 

फागुन यूँ बीत जाता है,
वो कुछ-कुछ टूट जाती है, 
यादों में पिछले फागुन की वो;
वो फिर से डूब जाती हैll

कहीं भूल न जाऊँ पथ घर का.......


                          वैदेही वनवास से,
                          विघटित होती आस से,
                          ओझिल होते सपनो से,
                           दूर हुए उन अपनों से,
                           किंकर्तव्यविमूढ़ होते हैं;
                            जब आप घर से दूर होते हैंll
                                   
                                             बुझती आशा, छिपता सूरज,
                                              मंदिर में वो राम की मूरत,
                                              वो नेजे और गुदरी के मेले,
                                              वो कुल्फी और चाट के ठेले,
                                              बड़े सरल पर गूढ़ होते हैं;
                                              जब आप घर से दूर होते हैं ll
                     
                           आँख भरी और दिल है तन्हाँ,
                           सुख वैभव का क्या है करना,
                           दूर रहे जब जीवन अपना,
                           घर संसार लगे एक सपना,
                           क्या अपनों के बिना कभी सम्पूर्ण होते हैं;
                           जब आप घर से दूर होते हैं ll