Wednesday, 21 October 2015

फ़र्क...



                                             लफ्ज़ अब मिलते नहीं
                                            नज़्म अब बनती नहीं।
                                           रंग चढ़ गया है इन पर भी शायद।
                                           धर्म- जात और भी जो,
                                          तरीके हैं फ़र्क करने के;
                                          वो सब अब हावी लगते हैं।
                                          तमाम कोशिशें करता हूँ इनको मिलाने की
                                          लेकिन नज़्म अब बनती नहीं,
                                          भारत आगे बढ़ता नहीं।।