Tuesday, 29 December 2015

कुट्टी और अब्बा..

बचपन के दिनों की बात करूँ तो
याद करो जब
छोटी सी नोक-झोंक होने पर
ठोडी के नीचे अंगूठा छुआकर
बोल देते थे कुट्टी
तोड़ लेते थे दोस्ती इस तरह....

भूलकर अगले ही पल सब कुछ
मुंह में अंगूठा डालकर कहते थे अब्बा
बन जाते थे दोस्त दोबारा
गिले  शिकवों को छोड़कर












यदि मैं मुंह में अंगूठा अच्छी तरह से घुमाकर
बोलूंगा अब्बा
तो क्या मान जाओगे
रिश्ते काश..... अब भी इतने आसाँ होते 

Wednesday, 21 October 2015

फ़र्क...



                                             लफ्ज़ अब मिलते नहीं
                                            नज़्म अब बनती नहीं।
                                           रंग चढ़ गया है इन पर भी शायद।
                                           धर्म- जात और भी जो,
                                          तरीके हैं फ़र्क करने के;
                                          वो सब अब हावी लगते हैं।
                                          तमाम कोशिशें करता हूँ इनको मिलाने की
                                          लेकिन नज़्म अब बनती नहीं,
                                          भारत आगे बढ़ता नहीं।।
                           
                             

Sunday, 22 March 2015

साया -३...


चाँद आधा है और मैं भी,
अब लिखता हूँ तेरी तलाश में,
सुबह से लेकर शाम
जमीं से लेकर आसमान।
           
                     अब हर दिन के बाद
                     जब रात आती है,
                     तो मानो ठहर सी जाती है
                     खालीपन में मेरे दिल के।


पूनम की रातें तो
आती हैं अक्सर ही,
पर चांदनी मेरे आँगन में
अब बरसती नहीं।

                      अब लिखता हूँ तेरी तलाश में,
                       कि शायद मेरी कोई नज़्म
                       पसन्द आएगी तुझे,
                       और आसमान से उतरकर
                        फिर एक बार मेरे करीब आये
                        और मुकम्मल हो जाये मुझमें।  

Friday, 13 March 2015

साया -२

कल रात  मैं घंटो बैठा रहा
खुले आसमां  के नीचे
तुझे ढूंढने के लिए,
इन तारों के बीच
पर नहीं मिली तुम मुझे वहां।
       
                तुम्हारी आवाज़ का रिकॉर्ड याद है
                जो बनाया था हमने एक रोज़
                उसे सुना तो थोड़ी तसल्ली हुई
                और खिलखिलाई होंगी हमारे घर की दीवारें,
                बगीचे और दरवाजे भी।

फिर मैंने तुम्हारी डायरी खोली
और तुम वहीँ थीं
तुम्हारी उन दो पसंदीदा
नज़्मों के बीच छिपी हुई।
मैंने एक बार फिर उन नज़्मों को पढ़ा,
और समा लिया तुमको अपने अंदर। 

Wednesday, 11 February 2015

साया -1

चाय में शक्कर एक चम्मच लूँ या दो,
तुम अब उसके लिए मुझे टोकती नहीं।
शाम को जरा सी भी देर हो जाने पर,
तुम्हारी वो नाराज़गी गुमशुदा  सी है।।

            मिलते हैं अक्सर घर के दरवाज़े बंद ही,
            शाम को लौटने पर।
            बड़े जतन से ढूंढ के चाबी,
            उसी पुराने भूरे बैग से;
            जब खोलता हूँ दरवाज़े,
            तो मायूसी ही पसरी मालूम होती है।

सब कुछ वैसे ही, जैसे सुबह था,
या पिछली शाम,या पिछले दिनों।।
 
           पिछले दिनों जो पौधे तुमने,
           रोपे  थे बागीचे में,
           आकर देखो
           उन पर अब फूल खिले हैं ढेरों,
           पर बागीचे में नहीं,
           दूर तुम्हारी कब्र पर।।




Note; साया -1  is first in the series of  "साया " which I am planning to write in coming months. Your comments will inspire me beyond limits.