Wednesday, 21 October 2015

फ़र्क...



                                             लफ्ज़ अब मिलते नहीं
                                            नज़्म अब बनती नहीं।
                                           रंग चढ़ गया है इन पर भी शायद।
                                           धर्म- जात और भी जो,
                                          तरीके हैं फ़र्क करने के;
                                          वो सब अब हावी लगते हैं।
                                          तमाम कोशिशें करता हूँ इनको मिलाने की
                                          लेकिन नज़्म अब बनती नहीं,
                                          भारत आगे बढ़ता नहीं।।
                           
                             

5 comments:

  1. अद्भुत हैं |👏

    ReplyDelete
  2. इस रचना के लिए हमारा नमन स्वीकार करें
    एक बार हमारे ब्लॉग पुरानीबस्ती पर भी आकर हमें कृतार्थ करें _/\_
    http://puraneebastee.blogspot.in/2015/03/pedo-ki-jaat.html

    ReplyDelete